Your SEO optimized title September 2018 – Page 6 – two line shayri

Monthly archives: September, 2018

bewafa dost shayari

Bewafa shayri:- कहीं तुम भी न बन जाना-किसी किताब का किरदार, लोग पढ़ते है बड़े शौक से-कहानिया “बेवफाओं” की.. वजह पूछी उदास होने की-जो मैंने गिरगिट से, बोला की शर्त हार गया-“तेरे महबूब से रंग बदलने में”.. “दरमियाँ” हमारे ग़र ताल्लुक ही नहीं तो, अनजान बनकर हम गुज़रते क्यूँ नहीं.. हम बस लिखते हैं-और वो …

very sad urdu shayari

Sad shayri:- Guzaarte Hai Jha se-Barbaad kar dete hai, Moohbbat Yeh Nahi dekhte-Kei ghar Keska hai.. Likhaa Unhone Kei-Bhool jao Humko, Hamne bhi jaawab diya-Kei kon ho tum.. Suno mei tumhaare Aas mei-Yu beitha hu, Jaisee kise la-ilaz ko-Intizar ho mautt ka… Azeb kshm-ksh Hai-Kei jan Kis ko dei, Wo bhi aa behtei hai-Aur mautt …