Your SEO optimized title bewafa dost shayari – two line shayri

bewafa dost shayari

Bewafa shayri:-

कहीं तुम भी न बन जाना-किसी किताब का किरदार,
लोग पढ़ते है बड़े शौक से-कहानिया “बेवफाओं” की..

वजह पूछी उदास होने की-जो मैंने गिरगिट से,
बोला की शर्त हार गया-“तेरे महबूब से रंग बदलने में”..

bewafa

“दरमियाँ” हमारे ग़र ताल्लुक ही नहीं तो,
अनजान बनकर हम गुज़रते क्यूँ नहीं..

हम बस लिखते हैं-और वो पढ़ते हैं,
इतना-सा ही रह गया है-ताल्लुक उनसे..

“जान”,तुम जो हम से नही करती,
मोहब्बत उसी को कहते है..

वहम,बड़ा ही हसीन है,
कि उनके लिए हम अहम हैं..

 bewafa shayri

जब थक गई राह तकते-मेरी आँखें,
फिर तुझे ढूंढने मेरी आँखों से-आँसूं निकले..

रह कर दिल में ‘दिल” दुखते हो,
अपना मुकाम तो देखो-और अपना काम देखो..

(1) very sad shayari hindi (2) bewafa dost shayari (3) bewafa dost hindi shayari (4) heart touch shayari in hindi (5) romantic shayari hindi mai (6) hindi sad quote (7) tea shayari in hindi (8) love shayari hindi me (9) two lines hindi shayari

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *